डूबते उर्दूवुड से विमल ने बुलवाया जुबां केसरी

क्या पिराबलम है जेंटल्मेन आपका ? पूरा देश अपनी ज़बान केसरी करते हुए दो अंगुलियाँ आँखों में डालने का इशारा कर रहा है, और आपको अक्षय कुमार के दोगलेपन की पड़ी है । पर गौर से देखो प्यारे, तीनों सुपरस्टार्स की आँखे सुरक्शित हैं क्यूंकी उन्होने महंगे गूगल पहने हुए हैं । महंगे गूगल, बड़ी-बड़ी…

पुंजापति, पुंजनम….पुं पुं के खेल में क्या बजेगी इसकी पुंगी?

अभी तक तो पुंजापति पूरी तरह से पचा नहीं था , ऊपर से पुंजनम की ओवरडोज़ हो गयी । तभी तो कल बहुत उल्टी की । आदमी को उम्र और स्वास्थ्य देखकर भोजन, और बुद्धि के हिसाब से ज्ञान इकट्ठा करना चाहिए । औंकता इंसान घृणा या उपहास का नहीं, दया का पात्र होता है…

सरूर जाए भाड़ में पर महिलाओं का क्या?

https://anchor.fm/abpunch/episodes/ep-e1gut85 “अरे छोटू, का पिराबलम है इन जेंटलमेन का ? महिला दिखी नहीं, मोर बनकर नाचने लगा ससुरा!” “सरूर का फोकस देखिये, मतलब एकदम टोटल !” “ज़िंदगी तो एक यही आदमी जी रहा है, बाकी तो बस धकिया रहे हैं।” “ही इज़ ए चिक मेगनेट” ऐसी दोयमदर्जे की फूहड़ बातें करने वाले मूर्ख! पिराबलम उस…

Spare us your Wordle Scores

Know that you are a Wordle salesman at the very least if you have the knack for dumping your coloured cubes on social media. I should be harsher in my assessment of the trolls who interrupt my feed every day with their juvenile nonsense masquerading as intellectual masturbation. Football fans have a similar fascination with…

सलमान सर्पदंश प्रसंग- अभियोग एवं निष्कर्ष

“…..सलमान को काटा !” हेडलाइन लंबी रही होगी, जल्दी में भाग रहे न्यूज़ टिकर पर मैं इतना ही पढ़ पाया । लव जिहाद का एंगल तो नहीं लगा, ईशनिन्दा अथवा बेअदबी करने वालों में से भी सल्लू लगता नहीं । और कुत्ते ने तो क्या ही काटा होगा ! कुत्ते अमीरज़ादों और छुट्टे सांडों को…

पूंजापति के बहाने राजा पूंजा का अपमान, गूँजापति तुम कैसे निकले इतने महान (व्यंग्य)

विद्वान जी को दुनिया भर का ज्ञान है । डंके की चोट पर कहते फिरते है कि उपनिषद पढे हैं । गंभीर व्यक्ति इस तरह अपने मोरपंख नहीं फैलाता । विद्वान महाशय टर्राते भी हैं, तो दुनिया को प्यार करने का, गले लगाने का और मानवता का निःशुल्क संदेश दे जाते हैं । आजकल हिन्दू…

ए कोल्ली, रण कब बनाएगो? टिप्स लेगो के? ( क्रिकेट बकैती)

इंग्लैंड से एक टेस्ट छोडकर भाग आए, आईपीएल पूरा होग्या, विश्वकप में पाकिस्तान से पिट लिए, दीवाली निकल गयी, कोच बदल गया, आधी कप्तानी छिन गई, आराम की खातिर एक टेस्ट छोड़ दिया- इतना कुछ हो लिया पर विराट कोल्ली, तुझसे रन कोणी बन रे । थारा बल्ला नू जो साँप सूंग कर गियो छो,…

दीपावली पर अवांछित मनन-चिंतन

पूजा के सिंगाड़े कल रात ही निपटा दिये थे । गुलाब जामुन धरे रह गए । जीवन ऐसे ही धरा रह जाता है । आदमी गुलाबजामुन को बचाए रख कर पहले सिंगाड़े चरता है । लक्ष्मी पूजा में ईख का जोड़ा भी रखा था । ईख अभी भी लक्ष्मी के इर्द-गिर्द खड़ी हैं । बचे…

पाकिस्तानी क्रिकेटरों की साफ़गोई का कायल होता जा रहा हूँ (व्यंग्य)

विश्व कप में बारह बार हारने के बाद पाकिस्तान को अंततः भारत पर जीत नसीब हुई । छियान्वे से हरे वकार युनूस के घावों पर अब जाकर कुछ मलहम लगा । कसम से जडेजा ने तब इसे बड़ा कस के कूटा था ।  तीस साल बाद मिली इस दुर्लभ खुशी में भी वकार को सबसे…

मंत्री का पिल्लू भाग गया (कविता)

चौकन्नों को चटनी चटाकर चूतियों को चकमा देकर   मुस्तैदों की माश चोशकर कर बंदोबस्त का बैंड बजाकर कानून व्यवस्था को धता बताकर पुलिस महकमे को गॉड दिखाकर भाग गया भई भाग गया मंत्री का पिल्लु भाग गया     (8) मुन्ना भैया कर कारस्तानी समन की करके नाफरमानी चंपत हो गया, बड़ा हरामी क्या उठा ले…

रेलगाड़ी से तो कुकुर भलो  (वैचारिक यायावरी)

पल भर के लिए इस चित्र को निहारिए । मदोन्मत्त द्रुतवाहिनी, लौहपथगामिनी, छुकछुककारिणी सुदूर सुनसान में धुआँ उड़ाए कहीं से कहीं सरपट भागे जा रही है । क्या कहा कि न गति दिखती है, न ही छुकछुक सुनाई देती है ? संभव है इसलिए कि कल्पना और उमंग उड़ान भरती हैं, रेल की पटरी पर…

रोनी सूरत वाले पाकिस्तान के प्रथम पैरोकार रवीश पाणे को एक हल्का हाथ

रोन्दु रवीश पाणे, बाध्यकारी विरोधाभासी, पाकहितों के स्थायी संरक्षक, एमडीटीवी । सुनो रवीश्वा, ये बात एकदमे नहीं जँचती कि तुम बरसों से एंकर की तनख्वा उठा रहे हो, एसी कमरे में बैठे-बैठे जाने कितनी कुर्सियों की गद्दियाँ फाड़ चुके हो, पर इतना भी ज्ञान नहीं रखते कि भारत सरकार ने तुम्हारे तालिबनी मामूओं को कंधार-परांत…