इतना न पुकारो इक्कीस को, कि….(कविता)

इतना न पुकारो इक्कीस को, जाता हुआ बीस अकड़ जाए,

इतनी न पालो उम्मीदें , नवागंतुक आते-आते ठिठक जाए।2।

मत दोष मढ़ो यूं साल पर सारा, घड़ी नहीं बिदक जाए,

हैं दोनों (20-21) समय ही –एक प्रवृत्ति, महाठगबंधन न बन जाए।4।

खिंच न जाए ये दिसंबर ,जनवरी स्थगित न हो जाए,

जंच जाये समय को कहीं अगर दोनों का विलय न हो जाए।6।

बहुत कोसा है वर्तमान को, अब आए जल्दी नववर्ष आए,

पर ध्यान रहे जाते-जाते कहीं बीस चपत लगा जाए।8।

देख विलायत की हालत आशा कैसे अब पल जाये?

भारी-भरकम पैरों वाला पूत (2021) पालना झुलता जाये।10।

नहीं छोड़ अब समय पर सब कुछ मानव कंधों पर डल जाये,

जो किए हैं वादे वैक्सीन के , इक्कीस में शायद मिल जाये ।12।  


#2021 #2020 #अलविदा2020 #खूनी2020 #कोरोनावर्ष

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s