कोई तो नाव होगी

कोई तो नाव होगी, पकड़ती स्वप्न की धार को,

किसी में तो माझी होगा, खेता फूँक कर पतवार को।2।

चाहे पड़े भंवर राह में या हो सामना तूफान से,

पलक झपक,करवट बदल, हम तर जाएंगे शान से।4।   

डगर भले हो दुर्गम लेकिन दृश्य बड़े मनोहारी होंगे,

पता नहीं,नहीं परिचय तेरा, दर्शन दे आभारी होंगे।6।  

कोई तो जलमार्ग होगा, पहुंचा देगा तेरे द्वार तक,

वो कुंजी भी भिजवा देगा जो ले जाएगा उस पार तक।8।  

निद्रा के प्रवाह में बहकर, प्रणय निवेदन करने आए,

नाम नहीं, तस्वीर नहीं, आभास तेरा क्या न करवाए? ।10।  

प्रविष्ट हो तेरे दुर्ग में तुझे किस नाम से पुकारेंगे,

मुक्ति हो या स्वर्णिमा , हे प्रेयसी हम स्वीकारेंगे।12।  

कोई तो नाव होगी जिस पर बैठ कर तू भी आ पाये ,

प्रतीक्षारत उस स्वप्न का जो तेरी छटा बिखरा जाये।14।


#कोईतोनावहोगी

#जलमार्ग

#हिंदिकविता

One Comment Add yours

  1. K Valson Chandrasekhar says:

    Simply beautiful with so lucid flow …. poem having immense in depth……

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s