शूल सी चुभ रही ये चुप्पी

शूल सी चुभ रही ये चुप्पी !

सवाल पूछती, जवाब तलाशती ये चुप्पी ! (2)

 

है उन भालों सी कटीली,

जो घमासान में खुलकर चले। 4।

 

है उन पत्थरों सी पैनी,

जो सैनिकों पर काल बन बरसे।6।

 

है उन शिलाओं सी नुकीली,

जिनपर धक्कामुक्की कर रहे,

हिन्दी-चीनी ऊंचाई से गिरे।9।

 

है उन तानों सी तीखी,

जो चंगुओं-चमनों ने,

नेता,देश,सेना पर कसे।12।

 

है उस गलवन की तरह ठंडी,

जिसने कितने ही जवानों को,

अपनी शीत में जमा दिया।15।

 

है उस घाटी की तरह चीखती,

जिसमे मल्ल युद्ध करते,

योद्धाओं की आहें निकलीं होंगी ।18।

 

है उन पार्थिव शरीरों सी शांत,

जिनके प्राणों को संतोष है,

कि मातृभूमि के लिए निकले ।21।

 

ये चुप्पी अब शूल सी चुभ रही है,

भारतमाता को भारी पड़ रही है,

सुनसान पहाड़ियों में अब गरजना ही होगा ,

दुश्मन पर आग बन बरसना ही होगा ।25।

 

(चुप्पी फिर भी चुप्पी है , देखें कब तक टिकती है)


 

#हिंदीचीनी #भारतचीन #गलवान #लद्दाख

#indiachina #galwan #strikeback

One Comment Add yours

  1. Tyree says:

    Wow that was unusual. I just wrote an extremely long comment but
    after I clicked submit my comment didn’t appear. Grrrr…

    well I’m not writing all that over again. Anyway, just
    wanted to say superb blog!

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s