पुलिस बेचारी और करती भी क्या ?

 

 

पुलिस बेचारी और करती भी क्या ?

चारों दुर्दांत द्रुत धावक निकले,

पलक झपकते ही सौ मीटर भग लीस,

सिपाही उसेन बोल्ट तो हैं नहीं ,

पर शार्प शूटर गजब के निकले ,

धाँय-धाँय धाँय-धाँय और चारों ढेर ! (6)

 

पुलिस बेचारी और करती भी क्या ?

भीड़ से बचाकर लाए थे हत्यारों को ,

तीन से छ्ह रहता है काला-शां सन्नाटा ,

सुरक्षा को लेकर विभाग पूर्णतया सजग था,

पर जनता को चाहिए त्वरित न्याय ,

मारती-कूटती, ठोकती-पीटती, कर देती चारों को ढेर ! (12)

 

पुलिस बेचारी और करती भी क्या ?

हथकड़ियाँ तक नहीं डालीं खूनी हाथों में,

उठाने दिये पत्थर छीनने दिये हथियार,

इक़बालिया अपराधियों को खुद पर करने दिये प्रहार ,

फिर जब बहुत हो गया हास्य-विनोद ,

तो धाँय-धाँय,धाँय-धाँय,और चारों वहशी ढेर ! (18)

 

पुलिस बेचारी और करती भी क्या ?

दो सिपाही पत्थर खाकर चोटिल हो गए,

ज्यादा दूर निकल जाते तो दरिंदे पकड़ न आते,

न निशाना ही लगता ,सिपाही हाँफते रह जाते,

आत्मरक्षा में नहीं ,आवाम की खातिर करना पड़ा,

धाँय-धाँय,धाँय-धाँय और चारों ढेर ! (24)

 

पुलिस बेचारी और करती भी क्या ?

कर रही थी क्राइम सीन रीकन्स्ट्रक्षन,

फिर स्पेशल कोर्ट में स्पीडी ट्राइल चलता ,

वकील,दलील,अपील,रीव्यू में फैसला फसा रहता,

ऑन द स्पॉट हो गया आज न्याय,

धाँय-धाँय,धाँय-धाँय , और चारों रेपिस्ट ढेर ! (30)

 

चलो पब्लिक को कुछ तो मिला- सस्ता प्याज़ नहीं , तो चार बलात्कारियों के जनाज़े ही सही । वीर-विहीन वसुधा को साईबराबाद के कमिश्नर साहब और उनकी टीम के रूप में  नए नायक मिले हैं । भीड़तन्त्र में अब हर मामले में  ‘फैसला ऑन द स्पॉट’  की उम्मीद रखी जाएगी । पुलिस और मंत्रियों पर रात के 3 बजे क्राइम सीन रीकन्स्ट्रक्षन रखने का दबाव बनेगा । हो सकता है ऊंघ रही न्यायपालिका की नींद भी खुल जाए । शायद आज के इस सरकारी हत्याकांड का यही एक सुखद परिणाम निकल कर आए ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s