भारत चरित्र

on

 

क्या लाशों के सबूत मांगना हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है ?

क्या बाहरी संकट के समक्ष झगड़ना हमारा नैसर्गिक व्यवहार है ?

क्या हर विजयगाथा को शंका से देखना हमारा राष्ट्रीय संस्कार है ? (3)

————————————————————————————————-

शोक की घड़ी में  हम रोने से अधिक चिल्लाते हैं,

अगर अपनों पर हो अत्याचार ,तो अपनों का ही दोषी ठहराते  हैं ,

हज़ार सालों तक ग़ुलाम रहे ,फिर भी जानकर हर बार धोखा खाते हैं ।6।

————————————————————————————————-

चिड़िया न देख द्रोण की अंगुली पर अटक जाना हमारा चरित्र है  ,

युवराज  को राज्यच्युत कर वनवास भेज देना कितना विचित्र है ,

ब्रह्म और माया के फेर मे पड़ा  हमारा जीवन ही एक चलचित्र है ।9।

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s