वो आ रही है

wo

वो फ्लाइट में बैठ चुकी है लाल सलवार पहनकर,

लाल लिपस्टिक से सजाये हैं होंठ

लाल ही बिंदी माथे पर लगाई है,

जब भी देखो पहने रहती है चेहरे पर मुस्कान,

उसकी आँखों में हसरतें हमेशा ही पायी हैं,

मेरे बहुत पूछने पर किया था इन रंगों का खुलासा,

बहुत लजाते हुए आज यह शाम आई है . 1.

 

मन की आँखों से उसे जी भर देख लिया था ,

आलिंगनबद्ध हो चुंबन भी सींच लिया था ,

मेरी तमन्नाएं उफान पाने के बाद उतरने लगी थीं ,

अब जाकर उसने अपनी एक सेलफ़ी मुझे भेजी है,

अपने सुरूर को वह तब तक बरकरार रखेगी ,

जब तक कि आसमान से मेरे शहर में उतर न जाए ,

चाहती है उसे सामने देख पिघल जाऊँ, पानी बनकर बह निकलूँ ,

उसे मालूम नहीं मैं कब से बरफ नहीं रहा .2.

 

 

सिगड़ी तो मैंने शाम से ही सुलगा छोड़ी थी,

चाहत की कढ़ाई में तब से धीमी आंच पर उबल रहा हूँ ,

वाष्प बनकर उड़ जाऊँ उसे गगन में ही छू  लूँ,

ये खयाल तो हुआ पर सब्र का मज़ा भी कुछ है,

उसके इंतज़ार में सुलगती हसरतों में डूबे  हुए ,

कभी उसकी सेलफ़ी तो कभी मन में बसी तस्वीर को

निहारता हूँ चूमता हूँ फिर मुसकुरा देता हूँ ,

अगर देर है थोड़ी फ्लाइट उतरने में,

घड़ी की सुई को थोड़ा आगे सरका देता हूँ .3.

 

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s