मैं ना बोलूँगा

 

मैं बोलूँगा नहीं ,आप स्वतः ही समझ लेना ,

मेरे बोलने की अब एक सीमा है ,

एक लक्ष्मण रेखा खींच दी गयी है

आज-अभी से  ही हम मंत्रियों के लिए  ।

(ministers  के लिए ,पहले नहीं थी  )

 

न आप लोग कोई सबूत मांगना ,

न अपने सवाल ही पूछना ,

मारो ! बदला ! ऐसे रक्तपिपासू नारे ,

अपने चैनलों पर मत चलाना ।

 

सबूत मांगोगे किसका ,कोई घोषणा कहाँ की है   ,

दिखाओगे क्या , जब फुटेज जारी नहीं हुआ ,

मीडिया  और पब्लिक को बस इशारा करना था ,

पराक्रम सालवार मनाया जाने वाला पर्व-भर नहीं है ।

 

संवाद संसद से नहीं सीधे जनता से करना  है ,

परिवाद पाकिस्तान से अधिक विपक्ष से है,

हमने अगर भूल से कह दिया कि कुछ किया किया ,

तो केजरी तुरंत पूछ पड़ेगा कि बताओ कहाँ है छूआ  ।

 

हेलीकाप्टर दो साल पुराना नहीं ,

करने आया था कल-परसों का हिसाब ,

यह इमरान की यलगार नहीं थी ,

लेकर आया था जलन-खीज  का तेजाब,

जनता -दुश्मन दोनों को यह बताना -चेताना आवश्यक है ,

किसी भी रास्ते से आ सकता है फिर कोई अजमल कसाब ।

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s