स्वच्छ भारत : एक स्वप्न

train

जब आयेगी, तब सोऊंगा ,
जहां आयेगी ,वहीं सोऊंगा,
रेलगाड़ी प्लेटफॉर्म पर कभी चढ़ेगी नहीं ,
जनता का क्या है, बगल से निकल ही जाएगी.

धूप मेरा बिगाड़ ही क्या लेगी,
गंदगी मुझे कितना और मलिन कर देगी ?
कुत्ते चाट सकते हैं, चाट लें,
संभव है बच्चे मुझपर हंसें , तो हंस लें .

मैं ऐसा ही हूं, और ऐसा ही रहूंगा ,
न सुधार का मानस है ,न स्वच्छता की महत्वाकांक्षा ,
कहाँ का मस्तमौला, बस एक लीचड़ बस,
आप में से ही हूँ – एक पक्का भारतीय.

जैसे इस देश की सफाई संभव नहीं,
मैं भी हूँ सुधरातीत,
न देश स्वच्छ होना चाहता है, न मैं,
कचरे में एक अपनापन है,उसे कैसे खो दूँ?

प्रधान सेवक की अपील पर मुस्कुरा-भर देना,
कहीं कचरा दिखे तो मुंह बिचका लेना,
गांधी गए, जाना तो एक दिन साहेब को भी है,
जब चले जाएँ, मुझे जगा देना.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s