पलंग पर पड़े रहने की डॉक्टर की हिदायत (कविता)

ped

मेरे गहरे मित्र की कमर में चोट लगी थी। डॉक्टर ने उसे दो हफ्ते बिस्तर पर लेटे रहने की सख्त हिदायत दी । कमर का मामला ही ऐसा है । आपके पास मनोरंजन का कोई चारा नहीं बचता । बैठकर tv भी नहीं देखा जा सकता ,लेटे ही रहना पड़ेगा ,वरना दर्द लंबे समय तक ठीक न होगा । एक दिन अपने  दोस्त से मिलने पहुंचा । वैसे वह बहुत आशिक मिजाज का , गाने-बजाने और कविता पाठ करने वाला इंसान है । पर उस दिन उसने न गाना ही सुनाया ,न ही अधिक बात की । गुमसुम खोया रहा । शायद यह सोच रहा होगा की कब चल सकूँगा । कुछ पंक्तियाँ उसी को देख कर लिखी गईं थीं ….

बिस्तर पर पड़ा वह एक कटे हुए पेड़ जैसा लगता है,

कुछ दिन तक वह न हिल सकेगा ,न ही डुल ही ,

डॉक्टर ने उसे सपने देखने से तो नहीं रोका है,

बस सपनों को छूने और पकड़ने की मनाही है ।

रोज़मर्रा मे तो उसे पैदल चलना तक पसंद नहीं ,

आजकल मगर फूटबाल खेलने की तीव्र इच्छा बलवान है ,

यों तो वह बहुत चलायमान कभी रहा नहीं,

मगर लेटे-लेटे चहलकदमी करने को छटपटाता है।

वह महबूबा की आँखों में आँखें डालकर ,

शेरों और ग़ज़लों में बात रखने वाला आदमी है   ,

आज  शिथिल-घायल होकर  भीष्म -शय्या पर पड़ा है,

क्यूँ किसी रूपसी की चंचल-चितवन देह के विछोह में

अतृप्त ,अधमरा होकर संताप करता है और

अपने शीघ्रतिशीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए

बागों में पेड़ों के इर्द-गिर्द मयूर की तरह

गीत गाने और नृत्य करने के ख्वाब सँजो रहा है ?

वह जानता है जब खड़ा हो जाएगा,

और एक दिन खड़ा हो ही जाएगा,

तब यह बाल सुलभ क्रियाएँ करते उसे लजा आएगी ,

हारमोनियम के बगैर , टेबल पर ही तबला बजाते  हुए,

थोड़ा जाम चूसते, थोड़ा बर्फ पिघलाते हुए,

इतना लेटे-लेटे जो पंक्तियाँ सोच रखीं हैं ,

उन्हे गा देने से ही उसकी प्रेयसी मान जाएगी !


#फ्रेक्चर #पलंगपरपड़ाआदमी #कमरकादर्द #हिन्दीकविता

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s